शनिवार, 2 जनवरी 2010

दुधवा के बाघों के संरछ्क विली अर्जन सिंह अब नहीं रहे

                                            
                                      
     विली अर्जन सिंह का आवास टाईगर हैवन अब सूना हो गया 


                                                                            
 विली अर्जन सिंह को मिले पुरस्कार 

                                
                                    






विली अर्जन सिंह
की पसंददीदा पुस्तकें  तथा उनका पैतारक  घर 






                                 विली अर्जन सिंह का आवास टाईगर हैवन



  विली अर्जन सिंह ने अंतिम दिन नौरंगपुर फार्म पर बिताये 
विली अर्जन सिंह 
का पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन करते डीपी मिश्र





         विली अर्जन सिंह के अंतिम दिनों के  साथी उनके सेवादार 









2 टिप्‍पणियां:

Krishna Kumar Mishra ने कहा…

भाई साहब बहुत ही सार्थक प्रयास, तस्वीरे जो कालजयी हो जायेंगी

Arvind Mishra ने कहा…

ओह तो अंत आ ही गया ...तारा टाईग्रेस प्रकरण से मैंने उन्हें जानना शुरू किया था ..अच्छे वन्य पशु प्रेमी थे .....आत्मा अकी शान्ति हेतु नमन !