रविवार, 3 जनवरी 2010

सुपुर्दे खाक हो गए विली अर्जन सिंह

दुधवा के बाघों के  हकों का हिमायती विली अर्जन सिंह आज दुनिया से विदा हो गये  







   उ. प्रदेश के प्रमुख वन संरछक वीके पटनायक 


                                 दुधवा के पूर्व उप निदेशक  पी. पी. सिंह आदि नागरिकों ने दी अंतिम विदाई 





                         दुधवा नेशनल पार्क के प्रवेश द्वार पहुंची शवयात्रा को पार्क कर्मचारियों ने दी सलामी 


                                                                      
                                                                   अंतिम दर्शन 





                                                    
                                       सुपुर्दे खाक हो गए विली अर्जन सिंह 



                                                                  रह गई केवल यादें


                                                                  
                                                आपको हमारा सलाम !!!!

3 टिप्‍पणियां:

बी एस पाबला ने कहा…

सलाम हमारा भी

बी एस पाबला

Udan Tashtari ने कहा…

श्रृद्धांजलि!!



’सकारात्मक सोच के साथ हिन्दी एवं हिन्दी चिट्ठाकारी के प्रचार एवं प्रसार में योगदान दें.’

-त्रुटियों की तरफ ध्यान दिलाना जरुरी है किन्तु प्रोत्साहन उससे भी अधिक जरुरी है.

नोबल पुरुस्कार विजेता एन्टोने फ्रान्स का कहना था कि '९०% सीख प्रोत्साहान देता है.'

कृपया सह-चिट्ठाकारों को प्रोत्साहित करने में न हिचकिचायें.

-सादर,
समीर लाल ’समीर’

श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’ ने कहा…

कोटिश: नमन ..... !!

मेरा दुर्भाग्य लखीमपुर खीरी में जन्म लेकर भी महान व्यक्तित्व से भेंट न कर पाना आजीवन कचोटता रहेगा.